Uniqueidea.net
 
 e-Card | Cinema | Wallpaper | SMS | Jokes | Poems | Story | Time Pass | Facts | Tips | FB Cover | Message Pic
Story Category
 
Share your Story for Desh Prem


More for Desh Prem Related Tag
 
 
Story >> Desh Prem

Post Your Business Listing Free at leading online business place - rajb2b.com



जब कभी हमारे परिवार में कोई परेशानी आती है तो हम एडी-चोटी लगा कर उसको दूर कर देते है, परन्तु आज हमें क्या हो गया कुछ लोग हमारे घर में घुस कर हमारे बच्चो को परिवार के सदस्यों को कुचल रहे है और हम हाथ पर हाथ रखे सुस्ता रहे है ! क्या हम कुछ नहीं कर सकते ? अजीब सा लगता है !
एक साम्यवादी देश हमारी देश कि आर्थिक स्थति की बीन बजाने पर तुला हुआ है और कामयाब भी हो रहा है ! उसके बनाये खिलोने, दूध दिवाली और ईद पर झिलमिल करने वाली रौशनी हो या मोबाइल सब अवल दर्जे का घटिया सामान वह बड़ी आसानी से बेच रहा है और हमारे श्रमिक बेरोजगार हो रहे है मतलब तो दरी तलवार से कटे जा रहे एक तो हमारे लोग बेरोजगार हो रहे है दूसरे हमारी आर्थिक नीतियों का सत्यानाश हो रहा है ! एक तो कड़वा करेला दूजा निम् चढ़ा ! क्या हम कुछ नहीं कर सकते ? अजीब सा लगता है !
भारत की संसद पर हमला करने वाला अफजल हो या नोटंकी करने वाला कसाब ये दोनों हमारे संविधान की मजाक उड़ा सकते है लेकिन हम इनको फाँसी नहीं दे सकते ! क्या हम कुछ नहीं कर सकते ? अजीब सा लगता है !
(मेरा मत है की इन जैसो को बीच में से चीर कर नमक और मिर्च भर कर चोराहे पर मरने के लिए छोड़ देना चाहिए !)
विश्व मानको की कसोटी पर खरा उतरने पर ही सामान ख़रीदा जाये ऐसे नियम अंतर्राष्ट्रीय कानून के दायरे में आते है ! लेकिन हम आज कुछ देशो से घटिया सामान लेते ना जाने किस दबाब में ! जबकि अमेरिका कद्दू भी इन मानको के आधार पर खरीदता है ! क्या हम इतने कमजोर हो गए है ! क्या हम कुछ नहीं कर सकते ? अजीब सा लगता है ! हमारा युवा अमेरिका, आस्ट्रेलिया, ब्रिटेन में पिटता रहे पर हम और हमारी सरकार कान में तेल डाल अपने मानव संसाधन को पीटने और देश छोड़ कर जाने से नहीं रोक सकते क्योकि उनके लिए यहाँ सही रोज़गार नहीं ! क्या हम कुछ नहीं कर सकते ? अजीब सा लगता है !
(एक बात तो बताना ही भूल गया हम अभी तक विश्व बैंक के कर्जे टेल दबे है तो हम आजाद तो है नहीं)
होटलों में माफ़ कीजियेगा पांच सितारा होटलों में आम लोगो और किसानो के लिए बनायीं गयी योजनाओ का लोकर्पण किया जाता है, जिनका बजट 4 से 5 लाख रूपये होता है ! वहां मेरी विरादरी में से कुछ लोग तो केवल लाल पानी, कुकीज और मुर्गे की टांग खाने के लिए जाते है, उनका बड़ा सम्मान होता है और तो और तोहफे भी दिए जाते है जिसका बजट अलग से पास किया जाता है !
(मेरा कुत्ता भी कुकीज और मुर्गे की टांग खाने के बाद मेरे ही गुण गता है मेरा विरोध नहीं करता कभी)
परन्तु देश की सरहद की और आतंरिक सुरक्षा की जिम्मेदारी निभाने वाले एक सिपाही को प्रतिमाह 10000-20000 से ज्यादा नहीं दे सकते उनके लिए बजट नहीं ला सकते ! क्या हम कुछ नहीं कर सकते ? अजीब सा लगता है !


ऐसा क्या क्या है जो हम नहीं कर सकते जरा गौरफरमाए:--
-हम तकनीक होते हुए भी आईटी में नंबर एक नहीं हो सकते क्योकि सत्यम घोटाला, सुखराम का टेलीफ़ोन घोटाला भी तो हमने ही किया है !
-कृषि प्रधान देश होते हुए भी हम नंबर एक नहीं हो सकते, ना ही किसानो के लिए बढ़िया योजनाये ला सकते और ना ही हम पशुधन में वृद्धी कर सकते ! (चारा घोटाला कोन करेगा)
-हम सुरक्षा कर्मियों की शहादत को भूल सकते है पर उनके परिवारों की जिम्मेदारी नहीं ले सकते ! (बोफोर्स घोटाला और ताबूत घोटाला कोन करेगा)
-हम किसी आतंकी देश या व्यक्ति को मुहतोड़ जबाब नहीं दे सकते
-हम एक मंच पर समस्त भारतीयों को नहीं ला सकते
-हम (मेरे सहित) गाल बजा सकते है, लिख सकते है पर कुछ कर नहीं सकते
-हम शिक्षा का स्तर नहीं सुधार सकते
-हम कश्मीर, अरुणाचल को अपना राज्य नहीं कह सकते (चाइना और पाक से हमको डर लगता है जी दिल तो बच्चा है जी)
-हम भारतीय नहीं कहलवा सकते शर्म आती है
-हम रोजगार नहीं दे सकते
-हम सत्यता को नहीं मन सकते
-हम किसी को अब गले नहीं लगा सकते


ऐसे ही ना जाने कितनी बातें हम नहीं कर सकते पर कुछ तो होगा जो हम कर सकते है ?
-हम अमेरिका के तलुए चाट सकते है अपने रिश्ते और भी मजबूत कर सकते है भले ही कोई गाँधी जी की समाधि पर कुत्ता घुमाये
-पडोसी से वार्ता कर सकते है उसको बेवजह झुक कर सलाम कर सकते है ताजमहल घुमने के लिए बुला सकते है
-बोफोर्स, ताबूत घोटाला कर सकते है
-विदेशी बांको में कला धन जमा कर सकते है
-हम गाँधी जी के अलावा बाकी सब क्रांतिकारियों को भूल सकते और गाँधी परिवार की जयंती और मरण दिवस माना सकते है
-भाषा के नाम पर हिंदुत्व के नाम पर लोगो का गला काट सकते है, हम बिहारी बन सकते है मद्रासी बन सकते है, हम मराठी है उत्तर भारतीय बन सकते है
-कश्मीर में घुसपैंठ करने दे सकते है
-मजदूरो को मजदूर बना रहने दे सकते है
-अधिकारी की कुर्सी पर बैठ कर किसी भी लड़की को रुचिका, मधुमिता बना सकते
-किसी भी भारतीय का अंग किसी विदेशी खलीफा की बेच सकते है
यहाँ तक की हम कुछ पैसो के लिए अपनी कलम (आज जो प्रिंट और इलेक्ट्रोनिक मीडिया कर रहा है) को भी बेच सकते है ! अब हमारा मूल्य कोई भी लगा सकता है !
सवाल बस यही कि हम क्या कर सकते है और क्या नहीं कर सकते,
आखिर हम कितने पानी में है यह सोचना जरुरी है कुछ करना जरुरी है वरना खड़े-खड़े तमाशा देखते-देखते खुद तमाशा बन जायेंगे ................
सितमगर वक्त का तेवर बदल जाये तो क्या होगा !
मेरा सर और तेरा पत्थर बदल जाये तो क्या होगा !! (नबाब देवबंद जी)
कुछ तो शर्म करो इस देश का नमक खाने वाले बेशर्मो ...कब तक इस देश का खाकर पाकिस्तान के गुण गाते हो , क्या अब फिर एक बार किसी नै क्रांति को जन्म देने का इरादा है , जो शांति के लिये युद्ध लड़ा जाएगा .

जागो हिन्दुस्तान हिंदुस्तान मंच
Mail to Friend   

The world community - United Nations Assembly - smile

An ingenious example of speech and politics occurred recently in the United Nations
Assembly that made the world community smile.



A representative from India began: 'Before beginning my talk I want to tell you
something about Rishi Kashyap of Kashmir, after whom Kashmir is named.. When he
struck a rock and it brought forth water, he thought, 'What a good opportunity
to have a bath.' He removed his clothes, put them aside on the rock and entered
the water. When he got out and wanted to dress, his clothes had vanished.. A
Pakistani had stolen them.'





The Pakistani representative jumped up furiously and shouted, 'What are you
talking about? The Pakistanis weren't there then.'



The Indian representative smiled and said, 'And now that we have made that
clear, I will begin my speech. 'And they say Kashmir belongs to them…





This is one mail I recommend to be shared with 'ALL INDIANS’. Including the
world at large …

Mail to Friend   

Shock for the Nation !!! (Believe it or not)

Do you know that India is the richest country in the world!

Right now, India is the richest country in the world! Wondering how?

It's really amazing.

It's due to Mr. G Vaidyaraj, who donated all his wealth, about which he actually did not know.

He is a descendent of Raja Krishnadev Raya from Mysore district.

For the last 300 years or so, three stones were worshipped in his house.But nobody tried to see what it was, except this person, who is a lawyer by profession. One day, when there was nobody in his house, he took the stone out to see what it was that they worship.

Due to the dust deposited on it, from many many years, it looked only like a simple stone.

But when he touched it, some portion of the stone was cleansed.

And he saw a bright ray of light.

He saw something which attracted his attention. And he was amazed when
he cleaned all of them. The whole room was filled with light.

He discovered they
Mail to Friend   

A first grade teacher explains to her class that she is an American.

She asks her students to raise their hands if they were American too.

Not really knowing why but wanting to be like their teacher, their
hands

explode into the air like flashy fireworks.

There is, however, one exception.

A girl named Gita has not gone along with the crowd.

The teacher asks her why she has decided to be different.

"Because I am not an American." replied Gita.

"Then", asks the teacher, "What are you?"

"I'm a proud Indian," boasts the little girl.

The teacher is a little perturbed now, her face slightly red. She asks
Gita

why she is an Indian.

"Well", my mom and dad are Indians, "so I'm an Indian too."

The teacher is now angry. "That's no reason", she says loudly "if
your
mom

was an idiot, and your dad was an idiot, what would you be then?"

A pause, and a smile.

"Then" says Gita, "I'd be an American."

Cheers!!!!
Mail to Friend   




Latest Story
The story of Idol (Murti) ... in Religious
Chaudhary ki Tapasya एक बै हरियाणा ... in Funny
Santa & Banta ne 1-1 Ghoda ... in Santa Banta
एक आदमी रात मे शराब ... in Funny
पत्नी का गुस्सा! एक दंपत्ति ... in Husband Wife
Most E-mailed Story
कल मैने खुदा से पूछा ... in Romantic
एक अंधी लडकी थी । ... in Moral
एक चीता Cigarette का सुट्टा ... in Funny
तीन आदमी, दो अधेड़ और ... in Moral
स्टेशन पे एक कुली से ... in Funny
Entertainment News

 Contact Us | About Us | Advertise With Us | Privacy Policy |
© Pelagian Softwares 2007, All right reserved