Father Sms poems Wishes And Messages, Father Sms poems WhatsApp Picture Sticker

जब मम्मी डाँट रहीं थी

जब मम्मी डाँट रहीं थी तो कोई
चुपके से हँसा रहा था, वो थे पापा. . .
.
जब मैं सो रही थी तब कोई
चुपके से सिर पर हाथ
फिरा रहा था , वो थे पापा. . .
.
जब मैं सुबह उठी तो कोई बहुत
थक कर भी
काम पर जा रहा था , वो थे पापा. . .
.
खुद कड़ी धूप में रह कर
कोई मुझे
एसी में सुला रहा था , वो थे पापा. . .
.
सपने तो मेरे थे पर उन्हें
पूरा करने का रास्ता कोई और
बताऐ जा रहा था , वो थे पापा. . .
.
मैं तो सिर्फ अपनी खुशियों में हँसती हूँ
पर मेरी हँसी देखकर कोई अपने
गम भुलाऐ जा रहा था , वो थे पापा. . .
.
फल खाने की
ज्यादा जरूरत तो उन्हें है पर कोई मुझे
सेब खिलाऐ जा रहा था , वो थे पापा. . .
.
खुश तो मुझे होना चाहिऐ कि
वो मुझे मिले , पर मेरे जन्म लेने की खुशी कोई और
मनाऐ जा रहा था , वो थे पापा. . .
.
ये दुनिया पैसों से चलती है पर
कोई सिर्फ मेरे लिऐ
पैसे कमाऐ जा रहा था , वो थे पापा. . .
.
घर में सब अपना प्यार दिखाते हैं पर
कोई बिना दिखाऐ भी इतना # प्यार किऐ
जा रहा था , वो थे पापा. . .
.
पेड़ तो अपना फल खा नही सकते
इसलिऐ हमें देते हैं...पर कोई अपना पेट
खाली रखकर भी
मेरा पेट भरे जा रहा था , वो थे पापा. . .
.
विदा तो मैं हो रही थी पर मुझसे भी
अधिक आंसू कोई और
बहाऐ जा रहा था , वो थे पापा. . .
.
मैं अपनी "R06;बेटीR36; " शब्द को
सार्थक बना सकती या नही...
पर कोई बिना स्वार्थ के
अपने " # पिता" शब्द को सार्थक
बनाऐ जा रहा था , वो थे पापा. . .!!Read Details