Search More

poems> Navratri

कभी दुर्गा बनके कभी काली

कभी दुर्गा बनके कभी काली बनके
चली आना मैया जी चली आना 

तुम कन्या रूप में आना, तुम दुर्गा रूप में आना
सिंह साथ लेके, त्रिशूल हाथ लेके, 
चली आना मैया जी चली आना ................ 

तुम काली रूप में आना, तुम तारा रूप में आना
खप्पर हाथ लेके, शांति साथ लेके,
चली आना मैया जी चली आना ................ 

तुम लक्ष्मी रूप में आना, तुम माया रूप में आना
उल्लू साथ लेके, दौलत हाथ लेके,
चली आना मैया जी चली आना ................ 

तुम शीतला रूप में नाना, तुम ठन्डे रूप में आना
झाड़ू हाथ लेके, गदहा साथ लेके,
चली आना मैया जी चली आना ................ 

तुम सरस्वती रूप में आना, तुम विध्या रूप में आना 
हंस साथ लेके, वीणा हाथ लेके,
चली आना मैया जी चली आना .....

Latest poems