Quotes poems Wishes And Messages, Quotes poems WhatsApp Picture Sticker

Best sattire in rajasthani for truth and personality

यदि विचारों में उदासीनता है तो 
फिर सफलता कैसे मिलेगी.

इंसान के ग़ुरूर की औक़ात बस इतनी सी है..
ना पहली बार ख़ुद नहा सकता है ना आख़िरी बार


"जुस्तुजू करनी हर इक अम्र में नादानी है 
जो कि पेशानी पे लिक्खी है वो पेश आनी है


#आपणा बडेरा केयग्या

बाग बिगाङे बांदरो. सभा बिगाङे फूहङ. 
लालच बिगाङे दोस्ती. करे केशर री धूङ. 
जीभड़ल्यां इमरत बसै, जीभड़ल्यां विष होय।
बोलण सूं ई ठा पड़ै, कागा कोयल दोय।।
चंदण की चिमठी भली, गाडो भलो न काठ।
चातर तो एक ई भलो, मूरख भला न साठ।।
गरज गैली बावली. जिण घर मांदा पूत. 
सावन घाले नी छाछङी जेठां घाले दूध!!
पाडा बकरा बांदरा चौथी चंचल नार. 
इतरा तो भूखा भला धाया करे बोबाङ
भला मिनख ने भलो सूझे, कबूतर ने कुओं 
अमलदार ने एक ही सूझे किण गाँव मे मुओ ?
राजनीति ने छोड़ अबे धूणी रा मजा लो।
बाकी ... राख छाणी कर दो

Two useful lines to dedicate your love one
It is also useful during MOC Or Anchoring
मेरी खुदी में निहां है मेरे खुदा का वजूद 
खुदा को भूल गया जबसे खुद को समझा है 

..... मुहसिन एहसान

Four Anchoring lines for the Charity or love spread inspiration
रंजिशे रूह का लिबास नहीं, 
गिले क्यूं किसलिए करे भला, 
चंद सांसों और रेत-सा जिस्म, 
सब रह जाएंगे यही धरा।।

Two anchoring lines on life, soul, karma
रूह पर मिरी, ज़िन्दगी, इतना तो इख़्तियार रखती है,
करम के आग़ाज़ से पहले मेरे आईना तैयार रखती है!!

कोई तो हो अपना जो कुम्हार ऐसा तलाश दे,
माटी हूँ मैं, मुझे इंसान की शक़्ल में तराश दे!

किसे खोज रहे तुम इस गुमनाम सी रुह में,,,
वो लफ़्जो में जीने वाला अब खामोशी में रहता है...

किस रावण की बांहें काटूं किस लंका में आग लगाऊं
घर-घर लंका, जन-जन रावण
इतने राम कहाँ से लाऊं

ख़ुदग़र्ज़ियाँ ओढ़ लेता है जब, दिल बईमान हुआ जाता है..
कुछ और की चाहत में, हर शख़्स परेशान हुआ  जाता है !

मेरी आवाज़ तुझे छू ले बस इतनी मोहलत
तेरे कूचे से गुज़र जाऊँगा साधू की तरह

क्या पूछते हो, दोस्त, क्या रहा ज़िन्दगी में कमाना मेरा,
क्या चाहिए और, मोहब्बत आपकी ही मेहनताना मेरा!Read Details