Religious facts Wishes And Messages, Religious facts WhatsApp Picture Sticker

दीपावली गुरुद्वारा दाता बंदी छोड़

गुरुद्वारा दाता बंदी छोड़- ग्वालियर

सिख दीपावली को बंदी छोड़ दिवस के रूप में मानाया जाता है, जिसका अर्थ अंग्रेज़ी में "प्रिज़्नर रिलीज डे" है। इस दिवस को बडि खुशी के साथ मनाया जाता है क्योंकि इसी दिन साच्चाई और अच्छाई की जीत बुराई पर हुई थी। इस दिन सिख के छटे गुरु, गुरु हरगोबिंद जी और ५२ हिन्दू राजपूत राजाओं को ग्वालियर किले के कारागार से रिहा किया गया। तब से इस दिन को बंदी छोड़ दिवस के रूप में मनाया जा रहा है। इस दिवस को हर साल दीपावली के दिन मनाया जाता है। यह त्योहार सिख के तीन त्योहारों में से एक है जिनमें दो त्योहार माघी और बैसाखी है।Read Details

Name of 100 (Hundred) Mahabharta

Name of 100 (Hundred) Mahabharta Kaurav Brothers


1. दुर्योधन 
2. दुःशासन 
3. दुःसह 
4. दुःशल 
5. जलसंघ 
6. सम 
7. स ह 
8. विंद 
9. अनुविं 
10. दुर्धर्ष 
11. सुबाहु 
12. दुषप्रधर्षण 
13. दुर्मर्षण 
14. दुर्मुख 
15. दुष्कर्ण 
16. विकर् 
17. शल 
18. सत्वान 
19. सुलोचन 
20. चित्र 
21. उपचित्र 
22. चित्राक् 
23. चारुचित्र 
24. शरासन 
25. दुर्मद 
26. दुर्विगा 
27. विवित्सु 
28. विकटानन्द 
29. ऊर्णनाभ 
30. सुनाभ 
31. नन्द 
32. उपनन्द 
33. चित्रबाण 
34. चित्रवर्मा 
35. सुवर्मा 
36. दुर्विमोच 
37. अयोबाहु 
38. महाबाहु 
39. चित्रांग 
40. चित्रकुण्डल 
41. भीमवेग 
42. भीमबल 
43. बालाकि 
44. बलवर्ध 
45. उग्रायुध 
46. सुषेण 
47. कुण्डधर 
48. महोद 
49. चित्रायुध 
50. निषंगी 
51. पाशी 
52. वृन्दारक 
53. दृढ़वर्मा 
54. दृढ़क्षत्र 
55. सोमकीर्ति 
56. अनूदर
57. दढ़संघ 
58. जरासंघ 
59. सत्यसंघ 
60. सद्सुवाक 
61. उग्रश्रवा 
62. उग्रसेन 
63. सेना 
64. दुष्पराजय 
65. अपराजि 
66. कुण्डशायी 
67. विशालाक्ष 
68. दुराधर 
69. दृढ़हस्त 
70. सुहस्त 
71. वातवेग 
72. सुवर्च 
73. आदित्यकेतु 
74. बह्वाशी 
75. नागदत्त 
76. उग्रशायी 
77. कवचि 
78. क्रथन 
79. कुण्डी 
80. भीमविक्र 
81. धनुर्धर 
82. वीरबाह 
83. अलोलुप 
84. अभय 
85. दृढ़कर्मा 
86. दृढ़रथाश्रय 
87. अनाधृष्य 
88. कुण्डभेदी 
89. विरवि 
90. चित्रकुण्डल 
91. प्रधम 
92. अमाप्रमाथि 
93. दीर्घरोमा 
94. सुवीर्यवान 
95. दीर्घबाहु 
96. सुजात 
97. कनकध्वज 
98. कुण्डाशी 
99. विर 
100. युयुत्सु


इन 100 भाइयों के अलावा कौरवों की एक बहन भी थी जिसका नाम दुशाला था, जिसका विवाह "जयद्रथ" सेहुआ थाRead Details

Writers of the Four Veda

Writers of the Four Veda are:

Rigveda : Agni Rishi
Yajurveda : Vay Rishi
Samved: Aditya Rsihi
Arthved: Angira RishiRead Details

33 करोड नहीँ 33 कोटि

33 करोड नहीँ 33 कोटि देवी देवता हैँ हिँदू धर्म मेँ। 

कोटि = प्रकार। 

देवभाषा संस्कृत में कोटि के दो अर्थ होते है, कोटि का मतलब प्रकार होता है और एक अर्थ करोड़ भी होता। हिन्दू धर्म का दुष्प्रचार करने के लिए ये बात उडाई गयी की हिन्दुओ के 33 करोड़ देवी देवता हैं और अब तो मुर्ख हिन्दू खुद ही गाते फिरते हैं की हमारे 33 करोड़ देवी देवता हैं........

कुल 33 प्रकार के देवी देवता हैँ हिँदू धर्म मेँ:
12 प्रकार हैँ आदित्य: , धाता, मित, आर्यमा, शक्रा, वरुण, अँश, भाग, विवास्वान, पूष, सविता, तवास्था, और विष्णु...! 8 प्रकार हैँ
वासु:, धर, ध्रुव, सोम, अह, अनिल, अनल, प्रत्युष और प्रभाष। 11 प्रकार हैँ- रुद्र: ,हर, बहुरुप,त्रयँबक,
अपराजिता, बृषाकापि, शँभू, कपार्दी, रेवात, मृगव्याध, शर्वा, और कपाली। एवँ दो प्रकार हैँ अश्विनी और कुमार।
कुल: 12+8+11+2=33 इस जानकारी को अधिक से अधिक लोगो तक पहुचाएं।Read Details