..Mila kya dost Teri dosti

..Mila kya dost Teri dosti se ..
Hue mehrum duniya ki her Khusi se,

Chaman aisa Jalaya bijliyo ne,
..Sehem jaate hai ab Roshniyo se,

Hume jisne mitaya VO kaha hai.....!
Yahi puchte hai her Kisi se,

Jine apna samjhte teh abhi tak..
Nazar aaye VO bhi ajnabi se,

Vafao per Dua de raha hu..
Banavat se nahi Khusi se,

Tumhe Bhul ker ji to lenge..
Magar ye dekhna Kis Bebasi se.....

Jaha bikhri thi Khavaabe rangi..
Vo dar choada hai kitni Bebasi se, 

Kabhi to ye Hakkikat jaan logi ..
Tumhe chaha tha Humne Sadgi se,

Na jab koi tumhare paas hoga Bahut yaad aaygi MERI KAMI SE .. "Read Details

Moor ker na dekh mujhe,

Moor ker na dekh mujhe, yoon hanstay hanstay,
Mere dost hain baray hoshiyaar, keh dengay bhabhi Namaste.
Read Details

Dil do to kisi ek

Dil do to kisi ek ko,
Aur do to kisi nek ko...
Jo samjhe pyaar ke matlab ko..
Jab tak saccha dildar na mile, try karte raho har ek ko.
Read Details

Judai apki rulati rahegi, yaad apki

Judai apki rulati rahegi,
yaad apki aati rahegi,
pal pal jaan jati rahegi,
jab tak jism mein hai jaan har saans ye rishta nibhati rahegiRead Details

Tere naal dosti akhri sah

Tere naal dosti akhri sah tak nibawange,
Tere pairan thalle assi ta talliyaan tikaawange,
Jado marzi parakh lai mere dosta,
Teri mashuk asi phasavange.
Read Details

Yaad teri wich saanu chain

Yaad teri wich saanu chain koi na, Saade utte tenu reham koi na, Horan nu tu din raat SMS kare, saade leyi tere kol time koi naa.
Read Details

Meri ankho ko sapne fir

Meri ankho ko sapne fir dikha gaya koi, buzhti sason me mahak fir jaga gaya koi, kya ye sachmuch pyar hai, ya Chutiya fir se bana gaya koi.
Read Details

Kise-kise mutiyar de hai sir

Kise-kise mutiyar de hai sir utte palla,
PAGG wala munda dise dasan vicho kalla,
Jeanan chall payian suitan da riwaaz na riha, 
Mera pehlan varga rangla Punjab na reha.
Read Details

Asin jitte bazi tan mashoor

Asin jitte bazi tan mashoor ho gaye,
Tere haseyan ch hase tan hanju door ho gaye,
Bas ik tere jehe dost di dosti badoult,
Asin tutte kach ton KHINR ho gayeRead Details

Zindagi de 4 din hass

Zindagi de 4 din hass khed k katt lo,
Pyar naal duniya ch khatna jo khat lo,
Lutt lo nazara jag wale mele da,
Pata nahio hunda yaaro aun wale wele da... Enjoy!
Read Details

Raaz dil ka dil mein

Raaz dil ka dil mein chupate hai woh,
Samne aate hi nazar jhukate hai woh,
Baat karte nahi, ya hoti nahi,
Par shukar hai jab bhi milte hai muskurate hai wohRead Details

Na moh na maya hai;

Na moh na maya hai; Aalas tumhi ko aaya hai; Humein bhi msg kar k dekh lo; Nokia/Motorola/Sony ne ye mobile sirf tumhari GIRLFRIEND k liye nahi banaya hai.
Read Details

Ae kalam ruk ruk ke

Ae kalam ruk ruk ke chal ek adab ka mukaam hai,
teri nok ke neeche mere mehboob ka naam haiRead Details

Rabba mere kanjar Dost nu

Rabba mere kanjar Dost nu suneha pahucha dayi,
Ohde dil ch khayal mera pa dayi,
Mast hoya houga kise kudi de supnia ch,
Os kamine nu sadi vi yad dawa dayi. 
Read Details

Aap khubsurat hain itne, ke

Aap khubsurat hain itne, ke har shakhs ki zuban par aap hi ka tarana hai, hum nacheez to kahan kisi ke kaabil, aur aapka to khuda bhi diwana hai. Good Morning.
Read Details

Wo yaron ki mehfil wo

Wo yaron ki mehfil wo muskrate pal,
Dilse juda hai apna bita hua kal
Kabhi guzarti thi zindgi waqt bitane me,
Ab waqt guzar jata hai chand kagaz k note kamane me.
Read Details

Rabb kare sade yaar muskraunde

Rabb kare sade yaar muskraunde rehen,
Sohnia nu tarpaunde rehen, 
Yara nal mehfila v launde rehan, 
Kuri na fase koi gal ni, customer care nal kam chalaunde rehan.
Read Details

Ishq ke sahare jiya nahi

Ishq ke sahare jiya nahi karte,
Gum ke pyalo ko piya nahi karte,
Kuchh Nawab dost hain hamare,
jinko Pareshan na karo to wo yaad hi kiya nahi karte...
Read Details

Kanjoos ki zindagi kya jeena,

Kanjoos ki zindagi kya jeena, kabhi humari tarah bhi jiya karo,
Roz mere sms padh kar sharam nahi aati, kabhi khud bhi SMS kiya karo.
Read Details

Wo yaron ki mehfil wo

Wo yaron ki mehfil wo muskrate pal,
Dilse juda hai apna bita hua kal
Kabhi guzarti thi zindgi waqt bitane me,
Ab waqt guzar jata hai chand kagaz k note kamane meRead Details

Jahan ki gurbat me sukun

Jahan ki gurbat me sukun nahi ayega,
Gam-e-tohin se kubul nahi ayega.
Maklul ki fitrat he ye kafir,
Dimag fat jayega par ye sher samajh nahi ayegaRead Details

Khwaish aisi karo ki aasman

Khwaish aisi karo ki aasman tak ja sako,
Dua aisi karo ki khuda ko pa sako,
U to jeene k liye pal bahut kam hai,
Jiyo aise k har pal mein zindgi pa sako..!
Read Details

Rishta banaya hai to nibhayenge, Har

Rishta banaya hai to nibhayenge,
Har pal aapko hasayenge-satayenge,
Pata hai aapko to fursat nahi yaad karne ki, 
Hum hi msg kr-kr ke apni yaad dilayenge.
Read Details

Zindagi... Cigarette ki tarah hoti

Zindagi... Cigarette ki tarah hoti hai, Enjoy karo... Warna... Sulag to rahi hi hai, khatam to waise bhi ho hi jayegi. Gud Day!
Read Details

Door tak chhaye thay baadal,

Door tak chhaye thay baadal, or kahin sayaa na tha
Iss tarha barsaat ka mousam, kabhi aaya na tha

Kya milla aakhir tujhay, saayon kay peechay bhag ker
Ay dil-e-nadaan tujhay, kya hum nay samjhaya na tha

Uff ye sannata, kay aahut tak na ho jiss mein mukhal
Zindgi mein iss qadar, hum nay sakoon paaya na tha

Khoob roye chhupp kay ghar ki, chaar deevaari mein hum
Haal-e-dil kehnay kay qabil, koi humsaaya na tha


Ho gaye qallaash jab say, aas ki doulat lutti
Paas apnay or tu, koi bhi sarmaaya na tha

Voh paighember ho kay aashiq, qatul gaah-e-shouq mein
Taaj kaanton ka kissay, duniya nay pehnaaya na tha

Ab khulla jhoonkon kay peechay, chal rahi thin aandhiyan
Ab jo manzar hay, voh pehlay tu nazar aaya na thaRead Details

Dard se dosti ho gayi

Dard se dosti ho gayi yaaroo
Zindagi bedard ho gayi yaaroo
Kya huwa jo jal gaya aashiyana hamara
Door tak roshni to ho gayi yaaroo.....

Hamne tho umr guzaar-di tanhaai main
seh liye situm teri judaai main
abh-to yeh faryaad hai khudha se
koi aur na tarpe----teri bewafaai main~

Qadam Qadam Par Baharon Ne Sath Chod Diya,
Pada Jab Waqt To Apno Ne Sath Chod Diya.
Qasam Khaii Thi In Sitaron Ne, Sath Dene Ki,
Subah Hote Hi Sitaron Ne Bhi Sath Chod Diya

ulfat mein aksar aisa hota hai,
ankhein hasti hai aur dil rota hai,
mante hai hum jinhe manzil
apni humsafar unka koi aur hota haiRead Details

Main Khayal hoon kisi aur

Main Khayal hoon kisi aur ka mujhay sochta koee aur hey
Sar-e-aiina maira aks hey pas-e-aiina koee aur hey

Main kisi ke dast-e-talab mein hoon tau kisi ke harf-e-dua mein hoon
main naseeb hoon kisi aur ka mujhay maangta koee aur hey

kabhi laut aain tau poochhna nahin daikhna unhain ghaur se
jinhain raastay mein khabbar huee ke yeh raasta koee aur heyRead Details

Abh Jo yeh LoaG NigaHoun

Abh Jo yeh LoaG NigaHoun Ko badaL Kar aye..
..hum Bhi aIna Liye Ghar se nikaL kar aye..

..Mill gayi hai meri Khoi soorat MujhKo..
..abh mukabil koi aye tou sambhal kar aye..

..Garmei ishQ kaja Mohabbat k aseeR..
..tEre Saye mein baithe Tou piGhal kar aye.

..neenD bhi ai tou Ehsaas jaga kar ai..
..KhwaaB bhi aye tou Tabeer mein dhal kar aye..

..Shukr sad shukr keh is shehr-e-ghazal mein hum ko..
..Koi laya nei hum aap hi chal kar aye..

..khud kalami mein magan hai gul nokhaiz..
..GufTagu ho to koi baat nikal kar aye..Read Details

Na-Jane kab is Dil ki

Na-Jane kab is Dil ki Hasarat puri hogi,
Kab mitege Faasle aur Door ye Doori hogi?

Door rehne ki konsi aisi Majburi hogi,
Bina us k Zindagi yakeenan Adhuri hogi

Pyar to wo bhi Hum se Be-Hadd karti hai,
Aayegi tabhi jab apno ki Manzoori hogi

Agar wo nahi aa paye kisi Darr k maare,
Uski Zimmedar bhi ye Dunya Buri hogi

Phirte hain log chehre pe Ronak le ker,
Kab Door Meri Zindagi ki Be-Noori hogi ?

Na-Jane kab is Dil ki Hasarat puri hogi,
Kab mitege Faasle aur Door ye Doori hogi?Read Details

Shayed hume aadat hai, har

Shayed hume aadat hai, har kisi ko apna bana lene ki
Bhul jaate hai hum,logo ko aadat hai bhul jaane ki..
Hum to shiqva bhi nahi karte unse
Vo to is baat ka bhi gila kar jaate hai..
Jo kehte hai hare hum dil ki bazi
Dekho humhare pyar ko khel banakar
Rote hai hum, has kar vo chale jaate hai
Ab to samajh gaye hum
Vafadaar duniya me milte nahi,
Fir bhi kisi se wafa karne ka junoon jata nahi
Shayed ..unhe wafa ki aadat nahi thi..,
Aur hume bewafai ki.!!!!

Vafa ki umeed me baithe hum,
Vafa ki umeed me baithe hum,

Koi bewafai ki hadein tor dey to kya karein.......

Ajjii ek - do hoon toh quila sikwa bhi karein aapse,

Saara jamana hi aisa ho toh hum kya karein... ...... ....Read Details

Aankh khuli to phir khwaab

Aankh khuli to phir khwaab chale gaye
jii behlane ke saare bahaane chale gaye

yaad rehta nahi kuch bhi yaad kiye bina
yaadoN me khokar jeene ke sahare chale gaye 

gham bhi gaya, khushiyaN bhi gaye
ek ek karke sab yaar chale gaye

har tasawwur me dekha tere chehre ko
har shaks ko khuda banakar chale gaye

chupaya na jaye logoN se meri dil ki raghbat
teri furqat ke sholay ragoN me chupakar chale gaye 

sirf dil hi tha tera sabse bada khazaana '.......'
phir kyun usey ek ajnabee pe lutakar chale gayeRead Details

Guzar ker her bar... Sab teraf

Guzar ker her bar...
Sab teraf dekhata hoon gali k

Koi khas fark nhi hai
Na gali main, na gali k mod main,
Na gali k mod sy mudeny waly logon main

Fark hota hai to mahaz itena
Ki har gali sy mud kar
Chehara kuch badal badal sa jata hai myra.Read Details

Hindi anchoring quotes shayariya

बात-बात पर हँस देना है , कदम-कदम  मुस्काना है ,
हमको खुशियों के पौधों को यूँ ही रोज लगाना है " ! 😊🙏

सिर्फ आवाज और लफ़्ज़ ही नहीं,,,,,,,, 
मेरी खामोशी भी तुम्हीं को ढूंढती है,,,,,,,

थाम लेना हाथ मेरा कभी पीछे जो छूट जाऊँ

              मना लेना मुझे जो कभी तुमसे रूठ जाऊँ

मैं पागल ही सही मगर मैं वो हूँ

               जो तेरी हर आरजू के लिये टूट जाऊँ..,,Read Details

Four lines for poor by money

मख़मलों के  न  ये  बिछोने दो |
मुझको यारो ज़मीं  पे  सोने दो ||
ऐसे आती है नींद मुफ़लिस को |
मुझको एहसास ये  भी होने दो ||
*"*"*"*"*"*"*"*"*"*"*"*"*"*"*"
सय्यद 'क़ासिम' अली बीकानेरीRead Details

Shayari on positivities

उन्हीं से उजालों की उम्मीद है
दिए आँधियों में जो जलते रहे

उन्हीं को मिलीं सारी ऊचाईयां
जो गिरते रहे और संभलते रहे

छुपाता रहा बाप मजबूरियां
खिलौनों पर बच्चे मचलते रहेRead Details

Ilzaam ab ki baar bhi kismat ke sir gaya

यूँ देखिए तो आँधी में बस इक शजर गया 
लेकिन न जाने कितने परिंदों का घर गया

जैसे ग़लत पते पे चला आए कोई शख़्स 
सुख ऐसे मेरे दर पे रुका और गुज़र गया

मैं ही सबब था अब के भी अपनी शिकस्त का 
इल्ज़ाम अब की बार भी क़िस्मत के सर गया

.........राजेश रेड्डीRead Details

Shaayari for the life, motivational, happiness

सुनो हंसी के लिए गुदगुदाना पड़ता है
चराग जलता नहीं जलाना पड़ता है

क़लन्दरी भी तो हिस्सा है बादशाही का
ज़नाब ! बीच में लेकिन खज़ाना पड़ता है

मिलेगी मिटटी से एक दिन हमारी मिटटी भी
अभी ज़मीं पे क्या क्या बिछाना पड़ता है

मुशायरा भी तमाशा मदार शाह का है
यहाँ हर एक को करतब दिखाना पड़ता है

ये कौन कहता है इनकार करना मुश्किल है
मगर ज़मीर को थोडा जगाना पड़ता है


🙏 शुभ रात्रीRead Details

उनको ये शिकायत है.. मैं

उनको ये शिकायत है.. मैं बेवफ़ाई पे नही लिखता,
और मैं सोचता हूँ कि मैं उनकी रुसवाई पे नही लिखता.'

'ख़ुद अपने से ज़्यादा बुरा, ज़माने में कौन है ??
मैं इसलिए औरों की.. बुराई पे नही लिखता.'

'कुछ तो आदत से मज़बूर हैं और कुछ फ़ितरतों की पसंद है ,
ज़ख़्म कितने भी गहरे हों?? मैं उनकी दुहाई पे नही लिखता.'

'दुनिया का क्या है हर हाल में, इल्ज़ाम लगाती है,
वरना क्या बात?? कि मैं कुछ अपनी.. सफ़ाई पे नही लिखता.'

'शान-ए-अमीरी पे करू कुछ अर्ज़.. मगर एक रुकावट है,
मेरे उसूल, मैं गुनाहों की.. कमाई पे नही लिखता.'

'उसकी ताक़त का नशा.. "मंत्र और कलमे" में बराबर है !!
मेरे दोस्तों!! मैं मज़हब की, लड़ाई पे नही लिखता.'

'समंदर को परखने का मेरा, नज़रिया ही अलग है यारों!!
मिज़ाज़ों पे लिखता हूँ मैं उसकी.. गहराई पे नही लिखता.'

'पराए दर्द को , मैं ग़ज़लों में महसूस करता हूँ ,
ये सच है मैं शज़र से फल की, जुदाई पे नही लिखता.'

'तजुर्बा तेरी मोहब्बत का'.. ना लिखने की वजह बस ये!!
क़ि 'शायर' इश्क़ में ख़ुद अपनी, तबाही पे नही लिखता...

शायर नामालूमRead Details

कभी रस्ते में मिल जाओ तो

कभी रस्ते में मिल जाओ
तो कतरा के गुज़र जाना,
हमें इस तरह तकना
जैसे पहचाना नहीं तुमने!
हमारा ज़िक्र जब आये
तो यूँ अनजान बन जाना,
कि नाम सुन कर भी
हमें जाना नहीं तुमने!!

~स्व.साहिर लुधियानवीRead Details

हजारों ख्वाहिशें ऐसी कि हर

हजारों ख्वाहिशें ऐसी कि हर ख्वाहिश पे दम निकले
बहुत निकले मेरे अरमाँ, लेकिन फिर भी कम निकले

डरे क्यों मेरा कातिल क्या रहेगा उसकी गर्दन पर
वो खून जो चश्म-ऐ-तर से उम्र भर यूं दम-ब-दम निकले

निकलना खुल्द से आदम का सुनते आये हैं लेकिन
बहुत बे-आबरू होकर तेरे कूचे से हम निकले

भ्रम खुल जाये जालीम तेरे कामत कि दराजी का
अगर इस तुर्रा-ए-पुरपेच-ओ-खम का पेच-ओ-खम निकले

मगर लिखवाये कोई उसको खत तो हमसे लिखवाये
हुई सुबह और घर से कान पर रखकर कलम निकले

हुई इस दौर में मनसूब मुझसे बादा-आशामी
फिर आया वो जमाना जो जहाँ से जाम-ए-जम निकले

हुई जिनसे तव्वको खस्तगी की दाद पाने की
वो हमसे भी ज्यादा खस्ता-ए-तेग-ए-सितम निकले

मुहब्बत में नहीं है फ़र्क जीने और मरने का
उसी को देख कर जीते हैं जिस काफिर पे दम निकले

जरा कर जोर सिने पर कि तीर-ऐ-पुरसितम निकले
जो वो निकले तो दिल निकले, जो दिल निकले तो दम निकलेRead Details

एक ऐसा गीत गाना चाह्ता

एक ऐसा गीत गाना चाह्ता हूं, मैं..
खुशी हो या गम, बस मुस्कुराना चाह्ता हूं, मैं..

दोस्तॊं से दोस्ती तो हर कोई निभाता है..
दुश्मनों को भी अपना दोस्त बनाना चाहता हूं, मैं..

जो हम उडे ऊचाई पे अकेले, तो क्या नया किया..
साथ मे हर किसी के पंख फ़ैलाना चाह्ता हूं, मैं..

वोह सोचते हैं कि मैं अकेला हूं उन्के बिना..
तन्हाई साथ है मेरे, इतना बताना चाह्ता हूं..

ए खुदा, तमन्ना बस इतनी सी है.. कबूल करना..
मुस्कुराते हुए ही तेरे पास आना चाह्ता हूं, मैं..

बस खुशी हो हर पल, और मेहकें येह गुल्शन सारा "अभी"..
हर किसी के गम को, अपना बनाना चाह्ता हूं, मैं..

एक ऐसा गीत गाना चाह्ता हूं, मैं..
खुशी हो या गम, बस तेरी ख़ुशी चाहता हूँ ***Read Details

दिलों में दर्द लब पे

दिलों में दर्द लब पे तश्न्गी है यहाँ 
जिन्दगी कुछ भी नही सिर्फ़ बेबसी है यंहा 
शोर है भीड़ है हंगामा कत्लेआम के बीच 
तुम्हारी साँस अभी है यही खुशी है यहाँ 
वो बात झूठी थी जो मैं एलान किया करता था 
फकत जो तू कहे-बोले वही सही है यहाँ 
कोई तो हद हो और कितना दर्द पी जायें 
तमाम गम है और तनहा आदमी है यहाँ 
मैं एक रोज मोहब्बत भी करके देखूंगा 
सुना है दिल का लगाना भी दिल्लगी है यहाँ 



हमारे गम से वो गाफिल नही हैं फ़िर भी बसर 




कभी जो पूछे तो कहना हंसी खुशी है यहाँRead Details

खून अपना हो या पराया

खून अपना हो या पराया हो 
नस्ल ए आदम का खून है आख़िर 
जंग मशरिक में हो या मग़रिब में 
अमन ए आलम का खून है आख़िर 
टैंक आगे बढ़ें या पीछे हटें
कोख धरती की बाँझ होती है 
फ़तहे का जश्न हो या हार का सोग 
जिंदिगी मैयतों पे रोती है 
जंग तो ख़ुद ही एक मसला है 
जंग क्या मसअलों का हल देगी 
खून ओर आग आज बरसेगी 
भूख ओर एहतियाज कल देगी 
इसलिए ए शरीफ इंसानों 
जंग टलती रहे तो बेहतर है 
आप ओर हम सभी के आँगन में 
शम्मा जलती रहे तो बेहतर है 

साहिर लुधयान्वीRead Details

चाँद हर रोज़ मीठे ख़्वाब

चाँद हर रोज़ मीठे ख़्वाब दिखाता क्यों है? 
उसे सच मान लूँ फिर दिल को बहकाता क्यों है? 
हरदम रहता है वह डाले हुए रुख़ पर नक़ाब 
बार बार बनक ख़ुदा मुझको डराता क्यों है? 
मुद्दत से आँधियों में चिराग़ों सा जला हूँ 
हवा बनकर मुझे फिर कोई डराता क्यों है? 
अबके कोई फूल न बच पाया है ख़िज़ाओं में 
अभी सावन है मुझे कोई बताता क्यों है? 
जो भी मिलताहै मुझे दर्द देके जाता है 
वही लोगों से मुझे ग़लत बताता क्यों है? 
मैंने तो सोच लिया करेंगे न शिक़वा किसी से 
याद आ आ के मुझे कोई रुलाता क्यों है? 
रात के सन्नाटे में जब कोई पंछी बोलता है 
कोई संदेश देता है ऐसा लगता क्यों है? 
Read Details

ज़िंदगी है छोटी, हर पल

ज़िंदगी है छोटी, हर पल में ख़ुश रहो... 
Office मे ख़ुश रहो, घर में ख़ुश रहो... 
आज पनीर नही है दाल में ही ख़ुश रहो... 
आज gym जाने का समय नही, दो क़दम चल के ही ख़ुश रहो... 
आज दोस्तो का साथ नही, TV देख के ही ख़ुश रहो... 
घर जा नही सकते तो फ़ोन कर के ही ख़ुश रहो... 
आज कोई नाराज़ है उसके इस अंदाज़ में भी ख़ुश रहो... 
जिसे देख नही सकते उसकी आवाज़ में ही ख़ुश रहो... 
जिसे पा नही सकते उसकी याद में ही ख़ुश रहो 
Laptop ना मिला तो क्या, Desktop में ही ख़ुश रहो... 
बीता हुआ कल जा चुका है उसकी मीठी यादें है उनमे ही ख़ुश रहो... 
आने वाले पल का पता नही... सपनो में ही ख़ुश रहो... 
हसते हसते ये पल बिताएँगे, आज में ही ख़ुश र 
Read Details

कर भी woh मुझे जान

कर भी woh मुझे जान न paaye,
आज तक woh मुझे pehchaan ना paaye,
खुद hi कर li bewafai हमने,
taaki unpar कोई ilzaam na आये
Nakaam si कोशिश कीया करते हैं,
हम हैं ki unse प्यार कीया करते हैं,
Khuda ne takdir me ek tuta tara nahi likha,
Aur hum hain ki chaand ki aarzu kiya karte hain 
milna itifaak tha bicharna naseeb tha
wo utna he door ho gaya jitna kareeb tha
hum usko dekhne k liye taraste he rahe
jis shaks ki hatheli pe hamara naseeb tha
Mere dil ki kitab ko padhna kabhi,
Sapno me aake mujh se milna kabhi
Maine duniya sazai hai tere liye,
Meri nazro ki ummed ban'na kabhi
Bahut dur hai sitaro se roshan jahan,
Jra humkadam banke mere sath chalna kabhi
Bahut najuk seene mai DIL hai mera,
Tum andaj mohabbat banke dha'rkna कभीRead Details

ना ज़मीन, ना सितारे, ना

ना ज़मीन, ना सितारे, ना चाँद, ना रात चाहिए,
दिल मे मेरे, बसने वाला किसी दोस्त का प्यार चाहिए,

ना दुआ, ना खुदा, ना हाथों मे कोई तलवार चाहिए,
मुसीबत मे किसी एक प्यारे साथी का हाथों मे हाथ चाहिए,

कहूँ ना मै कुछ, समझ जाए वो सब कुछ,
दिल मे उस के, अपने लिए ऐसे जज़्बात चाहिए,

उस दोस्त के चोट लगने पर हम भी दो आँसू बहाने का हक़ रखें,
और हमारे उन आँसुओं को पोंछने वाला उसी का रूमाल चाहिए,

मैं तो तैयार हूँ हर तूफान को तैर कर पार करने के लिए,
बस साहिल पर इन्तज़ार करता हुआ एक सच्चा दिलदार चाहिए,

उलझ सी जाती है ज़िन्दगी की किश्ती दुनिया की बीच मँझदार मे,
इस भँवर से पार उतारने के लिए किसी के नाम की पतवार चाहिए,

अकेले कोई भी सफर काटना मुश्किल हो जाता है,
मुझे भी इस लम्बे रास्ते पर एक अदद हमसफर चाहिए,

यूँ तो 'मित्र' का तमग़ा अपने नाम के साथ लगा कर घूमता हूँ,
पर कोई, जो कहे सच्चे मन से अपना दोस्त, ऐसा एक दोस्त चाहिए!Read Details

दोस्ती हम यूं ही नही

दोस्ती हम यूं ही नही कर बैठे,

क्या करे हमारी पसंद ही कुछ "ख़ास" है. .

चिरागों से अगर अँधेरा दूर होता,

तोह चाँद की चाहत किसे होती.

कट सकती अगर अकेले जिन्दगी,

तो दोस्ती नाम की चीज़ ही न होती.

कभी किसी से जीकर ऐ जुदाई मत करना,

इस दोस्त से कभी रुसवाई मत करना,

जब दिल उब जाए हमसे तोह बता देना,

न बताकर बेवफाई मत करना.

दोस्ती सची हो तो वक्त रुक जता है

अस्मा लाख ऊँचा हो मगर झुक जता है

दोस्ती मे दुनिया लाख बने रुकावट,

अगर दोस्त सचा हो तो खुदा भी झुक जता है.

दोस्ती वो एहसास है जो मिटती नही.

दोस्ती पर्वत है वोह, जोह झुकता नही,

इसकी कीमत क्या है पूछो हमसे,

यह वो "अनमोल" मोटी है जो बिकता नही . . .

सची है दोस्ती आजमा के देखो..

करके यकीं मुझपर मेरे पास आके देखो,

बदलता नही कभी सोना अपना रंग ,

चाहे जीतनी बार आग मे जला के देRead Details

हम को जुनूँ क्या सिखलाते

हम को जुनूँ क्या सिखलाते हो हम थे परेशाँ तुमसे ज़ियादा 
चाक किये हैं हमने अज़ीज़ों चार गरेबाँ तुमसे ज़ियादा 



चाक-ए-जिगर मुहताज-ए-रफ़ू है आज तो दामन सिर्फ़ लहू है 
एक मौसम था हम को रहा है शौक़-ए-बहाराँ तुमसे ज़ियादा 



जाओ तुम अपनी बाम की ख़ातिर सारी लवें शमों की कतर लो 
ज़ख़्मों के महर-ओ-माह सलामत जश्न-ए-चिराग़ाँ तुमसे ज़ियादा 



हम भी हमेशा क़त्ल हुए अन्द तुम ने भी देखा दूर से लेकिन 
ये न समझे हमको हुआ है जान का नुकसाँ तुमसे ज़ियादा 



ज़ंजीर-ओ-दीवार ही देखी तुमने तो "मजरूह" मगर हम 
कूचा-कूचा देख रहे हैं आलम-ए-ज़िंदाँ तुमसे ज़ियादाRead Details

चोटों पे चोट देते ही

चोटों पे चोट देते ही जाने का शुक्रिया,

पत्थर को बुत की शक्ल में लाने का शुक्रिया,

जाग रही तो मैंने नए काम कर लिए,

ऐ नींद आज तेरे न आने का शुक्रिया,

सूखा पुराना जख्म, नए को जगह मिली,

स्वागत नए का और पुराने का शुक्रिया,

आते न तुम तो क्यों मैं बनाती ये सीढ़ियाँ,

दीवारों, मेरी राह में आने का शुक्रिया

आँसू-सी माँ की गोद में आकर सिमट गयी,

नजरों से अपनी मुझको गिराने का शुक्रिया,

अब यह हुआ कि दुनिया ही लगती है मुझको घर,

यूँ मेरे घर में आग लगाने का शुक्रिया,

गम मिलते हैं तो और निखरती है शायरी,

यह बात है तो सारे जमाने का शुक्रिया ।।।।।।।।।।।।।।।।।।।Read Details