Shyari jokes Wishes And Messages, Shyari jokes WhatsApp Picture Sticker

Nammo ki kya baat kartey

Nammo ki kya baat kartey ho
Log to chehere tak bhool jatey hain
Tum samunder ki baat kartey ho
Doobney wale to aankho me doob jate hai

VARUN SHARMA([email protected])

मैं बेरोजगार हूं जनसंख्यावुद्धि में माता

मैं बेरोजगार हूं
जनसंख्यावुद्धि में माता पिता का प्यार हूं
मुझें नौकरी रूपी बीवी दे 
मै सरकार का जवाई बनने को तैयार हूं।

नौकरी नहीं नौकर है हम

नौकरी नहीं नौकर है हम 
आठ घंटे के जोकर है हम 
दिल भर सबको खेल दिखाते
घर जाकर उल्लू बन जाते

तुझसे प्यार करने की ऐसी

तुझसे प्यार करने की ऐसी सजा मिली
तेरे बाप के दफ्तर में चपरासी की नौकरी मिली

जब भी तुझे देखना हूं दिल

जब भी तुझे देखना हूं
दिल में एक ख्याल आता है
क्यो न रख लूं तुझे नौकरी पर 
मेरा नौकर हफ्ते में तीन बार ही आता है

हाय हाय ये मजबुरी तेरी

हाय हाय ये मजबुरी 
तेरी नौकरी और ये दुरी 
दुरी है तो बढया है 
अभी बाली उमर है मेरी

बलम तेरी नौकरी सुबह मे

बलम तेरी नौकरी 
सुबह मे शाम तक टोकरी
अस्सी रूपय और बीडी माचिस 
कैसे काम चलाए छोकरी
पढा हुआ तो क्या हुआ
नौकरी कोसो दुर 
अनपढ नेता ही भले 
ऐश करे भरपुर

नौकरी ही करनी है तो

नौकरी ही करनी है 
तो घर वाली की कर
वह जाया करेगी दफ्तर 
और तू सम्भालना घर

अगर कश्मीर में बर्फ ना

अगर कश्मीर में बर्फ ना गिरती
तो शिमला में सर्दी ना होती 
हम आपसे बिछुड नही पाते
अगर पुलिस की नकरी नहीं होती

जब से वो नौकरी जाने

जब से वो नौकरी जाने लगी है
वक्त बेवक्त हमें धमकाने लगी है 
आज तक हमसे डरती थी और 
अब हमें इशारों वे नचाने लगी

सास ने हर्षोल्लास से दीपावली

सास ने हर्षोल्लास से दीपावली मनाई
फुलझडी की तरह नववधु जलाई
लक्ष्मी उनके पास जल्द से जल्द आती है 
जिन्हें दूसरों को अच्छी तरह
उल्लू बनाने की कला आती हैं ।

हर रिश्ते की एक सीमा

हर रिश्ते की एक सीमा होना चाहिए,
परिवर्तन हो, मगर धीमा होना चाहिए, 
खूब पटाखे छोडो दीपावली पर
पर जरूरी है, पहले बीमा होना चाहिए ।
खूब मीठे-मीठे पकवान खाएं 
सेहत में जो चार चांद लगाएं
लोग तो सिर्फ चांद पर गए हैं
आप उससे भी ऊपर जाए
दीपावली पर हमारी शुभकामनाएं ।

तुझे देखेंगे, तो सितारे भी सिहा

तुझे देखेंगे,
तो सितारे भी सिहा मांगेगे ।
प्यासे तेरी जुल्फों से घटा मांगेंगे ।
कांधे से दुपट्टे को सरकने न देना,
वरना मरने वाले भी जीने की दुआ मांगेंगे ।

मुझ पर तुम अपना फूलों

मुझ पर तुम अपना 
फूलों का गजरा फेंक दो ।
पोंछकर अपनी आंखो का
कजरा ही फेंक दो ।
मुझे तो तुम्हारी हर चीत से 
मुहब्बत है,
मुझ पर अपने घर का 
कचरा ही फेंक दो ।

गर तू साथ है मेरे, तो

गर तू साथ है मेरे,
तो दिल आबाद है मेरा ।
कह दे तू अपने बाप से,
यही दामाद है तेरा ।

अगर हम ने होते तो

अगर हम ने होते तो तुम्हे, 
गजल कौन कहता ।
इस बदसूरत चेहरे को,
खिलता कंवल कौन कहता ।
करिश्मा है तेरे बाप की प्रॉपटी का,
वरना इस डायन को महबूबा कौन कहता ।

कौन कहता है कि बुजुर्गो

कौन कहता है कि बुजुर्गो को 
प्यार करने का हक नहीं होता।
यह बात अलग है कि-
उन पर किसी को शक नही होता।